Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2020

Bollywood(बदलाव जरूरी है)

मुझे  पता  है,  कि  आप  सब  मेरी  अनकही  कहानी  के  अगले  पार्ट  का  इंतज़ार  कर  रहे  है।  लेकिन  फिलहाल  इस  दौरान  एक  घटना  ऐसी  घटी  जिसने  मुझे  इसपर  लिखने  को  मजबूर  कर  दिया  है। आज  ना  जाने  क्यों  बहुत  डरने  लगा  हू  मैं,  खुद  के  लिए  या  कहू  तो  हमसब  के  लिए।  हमसब  जो  किसी न किसी  सपने  से  जुड़े  है,  हमसब  जो  कोई न कोई  ऐसी  ख्वाहिश  रखते  है  जो  हमे  दुसरो  से  अलग  करती  है।  पर  क्या  हमारा  हमारे  सपनो  को  पूरा  करना  अपनी  ख्वाहिशो  को  पंख  देना  किसी  और  के  लिए  खतरा  बन  सकता  है?     ये  हादसा  इसे  ही  दरसाता  है... वैसे  तो  मैं  उस  बन्दे  को  जा नता  नही  था  और  शायद  ही  कभी  उससे  मिलता  भी,  लेकिन  ना  जाने  क्यों  उसकी  मौत  ने  मुझे  झकझोर  के  रख  दिया  है  और  मेरे  जैसे  कई  है  जिन्हें  इस  हादसे  से  तकलीफ  हुई  है  दिल  टूट  गया  है।                 ये  हादसा  जो  उस  शक्श  से  जुड़ा  है,  जो  एक  शानदार  अभिनेता  एक  अच्छा  इंसान  और  एक  ऐसा  व्यक्ति  था  जिसकी  पूरी  जिंदगी  सपनो  से  भरी  थी।      उसकी  गलती  सिर्फ  इतनी  थी  कि 

मेरी अनकही कहानी (1)

पहली नजर (chapter-1) ... एक  प्यार  जो  हर  कोई  कभी  न  कभी  किसी  न  किसी  से  कर  ही  लेता  है  और  जब  वो  प्यार  समझ  आना  शुरू  होता  ही  है  की  तभी,  ना  जाने  कैसे  हम  उससे  दूर  हो  जाते  है  और  उस  मोहब्बत  के बिछड़ने  का  गम  लेकर  ये  पूरी  जिंदगी  बिना  किसी  शिकायत  के  जिम्मेदारियों  के  बीच  कट  जाती  है, पर  किसी  कोने  में  दबी  उस  प्यार  की  कसक  कभी - कभी  यूही  आंखों  में  उतर  आती  है  और  वैसे  भी  कहा  जाता  है  कि,  सच्ची  मोहब्बत  हमेशा  अधूरी  ही  रहती  है। कुछ  ऐसी  ही  कहानी  है  मेरी : प्यार  जिसे  बयां  करना  भी  एक  मुश्किल  इम्तेहान  है। किससे  कहू,  की  एक  खामोश  सी  मोहब्बत  ही  इस  कहानी  का  मुख्य  किरदार  है! ये  कहानी  तब  शुरू  हुए  थी,  जब  मैं  कॉलेज  में  पढ़ता  था  और  कॉलेज  से  दूर  एक  कॉफ़ी  स्टोर  हुआ  करता  था।  वैसे  तो  मैं  चाय  का  शौकीन  हू पर व हाँ  कॉफ़ी  के  साथ  किताबे  भी  पढ़ने  को  मिलती  थी  और  वो  भी  शायरी  और  ग़ज़लों  की,  इसलिए  मैं  अक्सर  वहाँ  जाता  था  और  तभी  एक  दिन  मेरी  नजरें  एक  चेहरे  पर  थम  सी  ग