Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2020

Lockdown (jaan hai to jahan hai)

कृपया  अपनी  मदद  करे  देश  की  मदद  करे । 🙏Must  Read 👇 गाड़ियों  का  शोर  और  सड़कों  की  धूल  सब  थम  सी  गयी  है । लोगो  की  भीड़  और  वो  भीड़  से  आगे  निकलने  की  होड़  अब  रुक  सी  गयी  है। मिलते  नही  थे  जो  सुकून  से  दो  पल  भी  जीने  को , आज  लॉकडाउन  की  वजह  से  वो  जिंदगी  भी  मिल  गयी  है । इस  अनजान  सी  लड़ाई  से  हम  सबको  मिलकर  लड़ना  है । बेशक  आज  खो  दिया  है  सबकुछ,  पर  जीत  कर  इस  लड़ाई  को  फिर  सब  हासिल  करना  है । इस  हौसले  को  साथ  रख  कर  ही  अब  आगे  बढ़ना  है । लॉकडाउन  में  रह  कर  इस  कोरोना  की  कमर  को  तोड़ना  है । कितनो  के  घर  उजड़  गए  कितने  बेचारे  खाने  को  तरस  गए । कुछ  तो  पैदल  ही  नामुमकिन  सी  दूरी  तय  करने  निकल  गए । एक  तरफ  पेट  की  आवाज़  है,  तो  दूसरी  तरफ  कोरोना  का  डर ! क्या  करे  बेचारे  गरीब  अपने  परिवार  की  सुरक्षा  को  लेकर  डर  गए । देश  का  हर  बड़ा  छोटा  साथ  खड़ा  है । बस  डर  कुछ  जाहिल  गवारो  का  हुआ  है । ना  जाने  क्या  समझते  है  ये  मुट्ठी  भर  लोग  खुद  को , यहां  सवाल  बस  हमारे  स

इश्क़_बनारस (ishq_Banaras)

वैसे  तो  बनारस   शहर  अपने  आप  मे  एक  कहानी  है । पर  एक  कहावत  बहुत  बिख्यात  है  कि  बनारस   में  भगवान  की  भक्ति   और  इश्क़  की  कई  समानताये  है। जैसे  एक  इंसान  यहां  बिना  भक्ति   किये  नही  रह  सकता  ऐसे  ही  इश्क़  भी  उसे  अपने  ओर  खिंच  ही  लेता  है। कुछ  ऐसी  ही  है  ये   कहानी : घाट , गलियां   और  चौराहे ! बिना  मोहब्बत  के  यहां  कौन  रह  पाए । शाम  यहां  की  सुहानी  होती ! चिड़िया  भी  यहां  की  इश्क़  है  करती । मिलती  थी  वो  भी  अक्सर  गंगा   किनारे, क्या  खूबसूरत  थी  उसकी  वो  आंखें , सिर  पर  डालकर  दुप्पट्टा  माथे  पर  लगा  टिका ! लगती  थी  जैसे  हो  कोई  रूप  अनोखा । जितनी  बार  भी  देख  लु  उसे  मन  नही  था  भरता! वो  इश्क़   था  बनारस   का  जैसे  हर  भक्त   भोलेनाथ   से  है  करता ! कभी  मैदागिन   पर  दिख  जाती  कभी  विश्वनाथ  की  गलियों   में ! कभी  चाय  की  तफरी   पर  मिल  जाती तो  कभी  भोले  बाबा   की  रैलियों  में ! एक  रोज़  देखा  था  उसे  रेशमी  लिबाज़  में , खड़ी  थी  गोदौलिया   पर  जैसे  किसी  के  इंतज़ार  में , जब  भी