Skip to main content

Beto ko smjhao...


Maaf kriyega ye post thoda lmba ho gya hai kya kru ye drd hi aisa hai.. pr plz pura pdhe

Must read 🙏


कभी  निर्भया  कभी  दामिनी  ना  जाने  कितनी  अनजान  भी  है
कभी  जलाते  कभी  मारते  ना  जाने  कैसे  ये  इंसान  भी  है
निकलती  है  जो  बहन  मेरी  भी  घर  से  कैसे  कहू  निकलती  मेरी  जान  भी  है
आंखों  में  आंसू  भर  कबतक  मैं  देखु  की  अपने  देश  में  ऐसे  ऐसे  हैवान  भी  है

बात  करते  है  सब  सिर्फ  की  महिला  की  सुरक्षा  हम  करेंगे
ना  जाने  ये  अपने  भरोसे  कबतक  इन  महिलाओं  को  खतरे  में  रखेंगे
मैं  हु  कहता  की  क्यों  नही  रोकते  है  ये  उनके  हाथ  जो  इनपर  पड़े
और  सब  हो  जाने  के  बाद  ये  कहते  है  कि  आओ  हम  मिलकर  विरोध  करें

खबरे  दिखा  कर  आंसू  बहकर  लूटते  है  खूब  ये  टी.आर.पी  के  मजे,
अगली  खबर   आने  तक  बस  ये  सारा  नाटक  चले।
मोमबत्ती  लेकर  ना  जाने  कबतक  निकलेंगे  लोग!
मैं  कहता  हूं  क्यों  न  हम  इसके  लिए  आखिर  तक  लड़े।
लेकिन  देखता  हूं  दो  दिन  बात  कर  सब  अपने  अपने  घर  को  चले।

कानून  और  इंसाफ  के  इंतज़ार  में  ना  जाने  कितनी  बेटियां  जली
रूह  कांप  जाती  है  ये  सुनकर  की  आज  कइयों  की  जान  फिर  नही  बची
क्यों  नही  कुछ  करते  है  ये  हमपर  राज़  करने वाले
मैं  कहता  हूं  गलती  हमारी  है  क्योंकि  ये  बात  हमारे  बीच  भी  सिर्फ  2दिन  ही  चली

इन  सब  के  बाद  भी  कुछ  लोग  लड़कियों  की  ही  गलतियां  निकालते  है।
ना  जाने  कैसे  है  ये  जो  इस  दरिंदगी  को  भी  धर्म  से  जोड़  जाते  है।
मैं  क्या  पहना  दु  अपनी  बहन  को  ऊपर  से  नीचे  तक  काले  कपड़े,
पर  डरता  हूँ  कि  ये  दरिंदे  तो  छोटी  बच्चियों  के  साथ  भी  दरिंदगी  कर  आते  है।

बेटी  बचाओ!  बेटी  पढ़ाओ!  का  नारा  तो  ये  देते  है।
पर  जब  बेटियां  पढ़  लिख  कुछ  बन  जाती  है  तो  ये  दरिंदे  कहा  उन्हें  जीने  देते  है।
मैं  कहता  हूं  बस  ये  नारा  देने  से  बेटियां  सुरक्षित  नही  होंगी,
हमारे  कानून  में  क्यों  नही  इन्हें  एक  सुनवाई  में  ही  फाँसी  की  सज़ा  देते  है।

भगवान  ना  करे  कि  ऐसा  हो  किसी  के  भी  साथ।  
पर  मैं  पूछता  हूं  कि  अगर  यही  होता  किसी  बड़े  की  बेटी  के  साथ।
तब  भी  क्या  फैसले  और  कानून  को  इतनी  देर  लग  जाती।
जितनी  देर  लग  जाती  है  एक  गरीब  की  बेटी  की  लिखने  में  एफ़. आई.आर।

इन्हें गिरफ्तार कर के जेल में ले जाकर हमारे ही पैसो से खिलाते है
और ये साले हमारी ही बहन बेटियों का रेप कर जेल में मज़े की जिंदगी बिताते हैं
कानून के नाम पर इस देश मे हमें बस ठेंगा ही दिखाते है
ना जाने क्यों इन रेपिस्टों को ये तुरन्त फाँसी  या  इनकाउंटर की मौत नही दे पाते है।


मार दो उन्हें, जला दो उन्हें, फाँसी पर चढ़ा दो उन्हें
जो करते है जैसा बहन बेटियो के साथ वैसी ही सज़ा दो उन्हें
रूह काप जानी चाहिए किसी भी शख्स की ऐसा सोच कर भी
डर जाए हर गन्दी निगाह और गन्दी सोच वाले, कोई ऐसी सज़ा दो उन्हें |

कई  बार  लगता  है  की  कुछ  फैसले  कानून  और  राजनीति  से  दूर  जनता  के  बीच  मे  होने  चाहिए,  क्योंकि  जिस  दिन  जनता  ने  ऐसे  4... 5  को  जलाकर  चौराहे  पर  टांग  दिया  न  उसी  दिन  एक  डर  पैदा  होगा  और  वो  डर  ही   उनके  लिए  सबक  बनेगा  जो  ऐसी  सोच  और  घिनोनी  मानसिकता  के  साथ  हमारे  बीच  रह  रहे  है  और  ऐसा  ख्याल  भी  उनके  अंदर  उठा  तो  वो  डर  ही  उन्हें  डरायेगा।

"डर  का  होना  बहुत  जरूरी  है,  क्योंकि  जब  इंसान  के  अंदर  से  इंसानियत  खत्म  हो  जाती  है तभी  वो  हैवान  बनता  है,  और  हैवान  कभी  वापस  इंसान  नही  बनते।"


Comments

  1. Police, media and government sab chup hai bcs vo garib ki beti thi agar yhi kisi leader ki beti ke sath hua hota to uski gaadi palat jaati lekin ye to garib ki beti hai na

    ReplyDelete
  2. Thank you bhaiya per aisa koi kre tab na

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

धर्म संघर्ष!

मैं   माफी  चाहता  हू   क्योंकि  ये  ब्लॉग  थोड़ा  लम्बा  हो  गया  है  पर  आप  सभी  से  एक  ही  बिनती  है  कि  इसे  आखिरी  तक  पढ़े - मैंने  पढ़ी  है  एक  किताब! जिसमे  लिखे  है  जीवन  सभ्यता  के  जवाब! जवाब  देने  वाले  का  होना  भी  एक सवाल  था। सबको  पता  है  ये  मुद्दा  राजनीति  के  लिए  बेमिसाल  था। मैं  करता  हु  सादर  प्रणाम  अपने  प्रभु  को, जिन्होंने  सिखायी  जीवन  जीने  की  सभ्यता  हम  सभी  को! ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  जानते  सब  है,  पर  पहचानना  कोई  नही  चाहता  था। ये  कहानी  उनकी  है  जो  रहते  तो  सबके  दिलों  में  है,  पर  जुबान  पर  कोई  नही  लाना  चाहता  था। ये  कहानी  है  उनकी  जिन्हें  मानने  वालों  ने  उन्हें  सरआंखो  पर  बैठा  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  ना  चाहने  वालो  ने  आजतक,  बस  बहस  का  मुद्दा  बना  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  पिछले  500वर्षों  से  अपनी  ही  जमीन  पर  अपना  हक  मांग  रहे  थे। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  ना  जाने  कितने  ही  बरसो  से  बस  राजनेताओ  के  लिए  राजनीति  का  मुद्दा  बन कर  रह  गए 

आज़ादी...

आज  हमारे  74वें  स्वतन्त्रता  दिवस  की  आप  सभी  को  मेरे  और  मेरे  परिवार  की  तरफ  से  हार्दिक  बधाईया!    भगवान  करे  कि  अपने  देश  की  अखंडता  और  आज़ादी  को  हमसब  साथ  मिलकर  आगे  ले  जाये वैसे  तो  आज  आज़ादी  का  जश्न  मनाने  का  दिन  है,  पर  साथ  ही  साथ  कुछ  सोचने  का  दिन  भी  है,  की  हमसे  चूक  कहा  हुई  है... मेरा  नमन  है  उन  वीर  जवानों  को जिन्होंने  आज़ादी  के  लिए  अपने  प्राण  त्याग  दिए  और  उनको  जो  इस  तिरंगे  की  शान  को  हमेसा  ऊपर  उठाएं  रखने  के  लिए   आज  भी  इसकी सुरक्षा  में  खड़े  है...  आज  भी  भारत  देश  को  आज़ाद  रखने  के  लिए  अपने  प्राणों  की  आहुति  देने  से  पीछे  नही  हटते।                       ये  हमारे  देश  की  बिडम्बना  ही  है  कि  हम  जिस  आज़ादी  की  लड़ाई   74साल  पहले  जीते  थे  उस  जीत  के  सिर्फ  2,   4  नामो  के  अलावा  किसी  को  नही  जानते  है  या  कहू  की  हमे  पूरा  सच  बताया  ही  नही  गया  की  हमे  किसका  किसका  सम्मान  करना  है।  मैं  भी  इस  टॉपिक  को  छेड़ना  चाहता  हु  क्योंकि  मुझे  पता  है  कि  किसी  को  नही