Skip to main content

College ke Kamine Dost

Jaane kha kho gyi h wo shaame jo aksr yaaro k bich gujrti thi

Jaane kha kho gyi h wo subh jo aksr ekdurse ki khichai krte hue suru hoti thi

Mujhe yaad h jb college me hm sb saath the to kaise jindgi bdi aasan si lgti thi

Hr semester k baad kaise goa jaane ki planning bnti thi

Ar fir kisi ek kmine ki wjh se wo puri trip cancel hoti thi

Wo hostel waali ragging jisse jindgi jeene ki sabak milti thi

Wo meshh ka khana jha roz thaliya uthane se jyada ptki jaati thi

Class me baith lecture me distube kr k dusro pr ungliya uthti thi

Mujhe yaad kaise clg ki ldkiya bi hmari frndship se jlti thi

Kisi ldki ko jo koi ek dekh bi le to bss wo bakiyo ki bhabhi bnti thi

Pr kuch bi ho un kamino k bina jaise us wqt jindgi beeran si lgti thi

Wo khana naa bnane k bahano me begani shaadiyo ki tndoori rotiya ktati thi
Tb kha dikhawe k liye jindgi ki mastiya rukti thi

Semester suru hone k ek raat phle kitaabo se dhul hthti thi

Fir bi hr semester clear kr lene ki himmat un kamine dosto se hi to milti thi

Mujhe yaad hai wo clg ki aakhiri shaam jb gle lg kr roye to naa the pr jhoothi hasi rkh chehre pr ek dusre ki himmat bdhayi thi

Mujhe yaad h kaise us roz hm sbne milte rhne ki ek jhuthi tassali sbko dilayi thi

Kyuki hm sbko malum tha is wqt k raftaar ar duniya ki bhid me ab hmari bi khone ki baari aayi thi

Isliye to us roz piche mud dekhkr hmne na koi ummid jgaayi thi

Aaj un kmeeno ko in sbdo me pirote hue meri bi aankh bhr aayi h

Jaane kha kho gye h wo jinki yaad me hi ab ye Dosti amar ho jaani h...
Miss u yaaro...



Comments

  1. U always cancelled trip for goa....I remembered...😄

    Great mukhiya ji..keep it on...

    ReplyDelete
  2. You know that even the biggest kamina was me😎😜
    Btt miss that time yaaro..☹️

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

मेरी अनकही कहानी(4)

       वो  आखिरी  पल chapter(4)                       Last chapter               कई  बार  मोहब्बक्त  में  गलतफहमियां  हो  जाती  है,  और  उस  एक  गलतफहमी  का  मुआवजा  हम  पूरी  जिंदगी  भरते  है।...  अक्सर  सफर  और  मंज़िल के  बीच  मे  ही  प्यार  दम  तोड़  देता  है  और  यही  अधूरी  कहानियां  ही  हमारे  सफर  को  खूबसूरत  बनाती  है...  कुछ  ऐसी  ही  अधूरी  कहानी  है  मेरी  जिसे  एक  हसीन  मुकाम  देकर  छोड़  दिया  मैंने  और  आजतक  उस  मोहब्बक्त  को  ना  सही  पर  उस  एक  पल  को  यादकर  जरूर  मुस्कुराता  हूं,  जब  सच  मे  मुझे  एहसास  हुआ  कि  शायद  यही  प्यार  है। प्यार  ढूंढने  में  उतना  वक़्त  नही  लगता  जनाब!  जितना  उसे  समझने  और  समझाने  में  लगता  है।। मैं  बता  रहा  था  कि  अब  हमारी  मुलाकाते  बढ़ने  लगी  थी,  अब  अक्सर  कहू  तो  हम  हर  दूसरे  दिन  मिलते  थे।  खूब  सारी  बाते  होती  थी,  वो  मुझे  अपने  बारे  में  बताती  और  मैं  उसे  उसके  ही  बारे  में  बताता।...                         वो  कहती  कि  बहुत  बोलती  हु  ना  मैं!  मैं  कहता  तुम्हारा  खामोश  रहना  च

धर्म संघर्ष!

मैं   माफी  चाहता  हू   क्योंकि  ये  ब्लॉग  थोड़ा  लम्बा  हो  गया  है  पर  आप  सभी  से  एक  ही  बिनती  है  कि  इसे  आखिरी  तक  पढ़े - मैंने  पढ़ी  है  एक  किताब! जिसमे  लिखे  है  जीवन  सभ्यता  के  जवाब! जवाब  देने  वाले  का  होना  भी  एक सवाल  था। सबको  पता  है  ये  मुद्दा  राजनीति  के  लिए  बेमिसाल  था। मैं  करता  हु  सादर  प्रणाम  अपने  प्रभु  को, जिन्होंने  सिखायी  जीवन  जीने  की  सभ्यता  हम  सभी  को! ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  जानते  सब  है,  पर  पहचानना  कोई  नही  चाहता  था। ये  कहानी  उनकी  है  जो  रहते  तो  सबके  दिलों  में  है,  पर  जुबान  पर  कोई  नही  लाना  चाहता  था। ये  कहानी  है  उनकी  जिन्हें  मानने  वालों  ने  उन्हें  सरआंखो  पर  बैठा  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है  जिन्हें  ना  चाहने  वालो  ने  आजतक,  बस  बहस  का  मुद्दा  बना  रखा  है। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  पिछले  500वर्षों  से  अपनी  ही  जमीन  पर  अपना  हक  मांग  रहे  थे। ये  कहानी  उनकी  है,  जो  ना  जाने  कितने  ही  बरसो  से  बस  राजनेताओ  के  लिए  राजनीति  का  मुद्दा  बन कर  रह  गए 

आज़ादी...

आज  हमारे  74वें  स्वतन्त्रता  दिवस  की  आप  सभी  को  मेरे  और  मेरे  परिवार  की  तरफ  से  हार्दिक  बधाईया!    भगवान  करे  कि  अपने  देश  की  अखंडता  और  आज़ादी  को  हमसब  साथ  मिलकर  आगे  ले  जाये वैसे  तो  आज  आज़ादी  का  जश्न  मनाने  का  दिन  है,  पर  साथ  ही  साथ  कुछ  सोचने  का  दिन  भी  है,  की  हमसे  चूक  कहा  हुई  है... मेरा  नमन  है  उन  वीर  जवानों  को जिन्होंने  आज़ादी  के  लिए  अपने  प्राण  त्याग  दिए  और  उनको  जो  इस  तिरंगे  की  शान  को  हमेसा  ऊपर  उठाएं  रखने  के  लिए   आज  भी  इसकी सुरक्षा  में  खड़े  है...  आज  भी  भारत  देश  को  आज़ाद  रखने  के  लिए  अपने  प्राणों  की  आहुति  देने  से  पीछे  नही  हटते।                       ये  हमारे  देश  की  बिडम्बना  ही  है  कि  हम  जिस  आज़ादी  की  लड़ाई   74साल  पहले  जीते  थे  उस  जीत  के  सिर्फ  2,   4  नामो  के  अलावा  किसी  को  नही  जानते  है  या  कहू  की  हमे  पूरा  सच  बताया  ही  नही  गया  की  हमे  किसका  किसका  सम्मान  करना  है।  मैं  भी  इस  टॉपिक  को  छेड़ना  चाहता  हु  क्योंकि  मुझे  पता  है  कि  किसी  को  नही